Ticker

6/recent/ticker-posts

Panjshir Taliban: अफगानिस्तान के पंजशीर इलाके से क्यों डरता है तालिबान (Taliban attack on Panjshir)

दोस्तो अफगानिस्तान में हालात इतने बदतर हो चुके हैं कि लोग जान बचाने के लिए जहाज़ों के टायरों में छिपकर देश छोड़ने की कोशिश कर रहे है। तालिबान ने अफगानिस्तान के लगभग 33 प्रांतों पर कब्जा कर लिया है। सिर्फ पंजशीर घाटी ही एक ऐसा प्रांत बचा है, यहाँ फिलहाल अफगानिस्तान कब्जा नही कर पाया है।  तालिबान ने पंजशीर घाटी के नेता अहमद महसूद को चेतावनी दी है कि अगर उनकी सेना सरेंडर नही करती है तो उनके ऊपर हमला बोल दिया जाएगा। तालिबान ने ये भी कहा है कि उनके सैंकड़ों सैनिक पंजशीर घाटी की तरफ बढ़ रहे है।


तालिबान को जवाब देते हुए पंजशीर घाटी के नेता अहमद मसूद ने कहा है कि हम तालिबान के आगे सरेंडर नही करेंगे और तालिबान को मुँह तोड़ जवाब देने के लिए हमारी सेना पूरी तरह तैयार है। अहमद मसूद के पिता अहमद शाह मसूद भी तालिबानियों से हमेशा लोहा लेते रहे हैं। अहमद शाह मसूद अफगान नेता होने के साथ-साथ मिलिट्री कमांडर भी थे। अहमद शाह मसूद ही वो शख्स थे जिन्होंने सोवियत यूनियन को अफगानिस्तान से बाहर निकाला था। साल 2001 में तालिबान और अलकायदा के गुंडों ने अहमद शाह मसूद की हत्या कर दी थी।

आपको बता दें कि काबुल से पंजशीर की दूरी लगभग 150 किलोमीटर है। पंजशीर की आबादी की बात करें तो यहां लगभग दो लाख के आसपास लोग रहते हैं। यहां के लोगों का मानना है कि वह तालिबान से बिल्कुल नहीं डरते और जरूरत पड़ने पर अपनी जान देने के लिए भी तैयार हैं।

दोस्तों पोस्ट अच्छा लगा है तो इसे अपने दोस्तों के साथ ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ